Saturday, February 25, 2012

वक्त आयेगा एक दिन !

















छवि गूगल से साभार !


दिन आयेगा महफ़िल में जब, होंगे न हम एक दिन,
ख़त्म होकर रह जायेंगे सब, रंज-ओ-गम एक दिन।

नाम हमारा जुबाँ पे लाना, अखरता है अबतक जिन्हें ,
जिक्र आयेगा तो नयन उनके भी, होंगे नम एक दिन।

हमने तो वजूद को अपने , हर हाल में रखा कायम,
थक हार के खुद ही वो, बंद कर देंगे सितम एक दिन।

जख्मों को अपने हमने सदा,खरोचकर जीवित रखा ,
दिल पिघलेगा कभी , वो लगायेंगे मरहम एक दिन।

महंगी वसूली हमसे 'परचेत',कीमत हमारे शुकून की,
वक्त आयेगा जब भाव उनके भी होंगे कम एक दिन।

21 comments:

  1. Nam mera juban pe lana jinhe wazib nahi lagta wohi.........
    KHOOBSURAT GAZAL

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छी प्रस्तुति!
    इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  3. ये सोचकर कि जख्म ज़िंदा रहें, उन्हें खरोचता रहा,
    थक-हारकर फिर लगाने ही होंगे मरहम एक दिन।... आखिर दर्द सहने की भी हद तो होती है

    ReplyDelete
  4. महंगी वसूली हमसे 'परचेत',कीमत हमारे सुकून की,
    वक्त आयेगा जब भाव उनके भी होंगे कम एक दिन।
    satya kahati rachna ...

    ReplyDelete
  5. महंगी वसूली हमसे 'परचेत',कीमत हमारे सुकून की,
    वक्त आयेगा जब भाव उनके भी होंगे कम एक दिन।
    वाह... होगा एक दिन.. खूबसूरत गजल...

    ReplyDelete
  6. वाह वाह गोदियाल जी । बढ़िया ग़ज़ल लिखी है ।

    ReplyDelete
  7. ये सोचकर कि जख्म ज़िंदा रहें, उन्हें खरोचता रहा,
    थक-हारकर फिर लगाने ही होंगे मरहम एक दिन।

    ...वाह! बेहतरीन गज़ल जो दिल को छू जाती है..

    ReplyDelete
  8. नाम मेरा जुबाँ पे लाना, जिन्हें वाजिब नहीं लगता,
    जिक्र आयेगा तो नयन उनके भी होंगे नम एक दिन.......भावुक कर देने वाली प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  9. ढुलमुल यूँ इसतरह कबतक, चलती रहेगी जिन्दगी,
    कुछ न कुछ सख्त तो उठाने ही होंगे कदम एक दिन।


    महंगी वसूली हमसे 'परचेत',कीमत हमारे सुकून की,
    वक्त आयेगा जब भाव उनके भी होंगे कम एक दिन।
    बढ़िया ग़ज़ल बढ़िया संकल्प बिलाशक ज़िन्दगी 'सरकार 'की तरह ढुलमुल क्यों चले ,नाकारा क्यों रहे ?

    ReplyDelete
  10. वाह!!!!
    बेहतरीन गज़ल.....

    ReplyDelete
  11. उस एक दिन की प्रतीक्षा न जाने कब से है..

    ReplyDelete
  12. शानदार प्रस्तुति...
    सादर.

    ReplyDelete
  13. ये सोचकर कि जख्म ज़िंदा रहें, उन्हें खरोचता रहा,
    थक-हारकर फिर लगाने ही होंगे मरहम एक दिन।…………बहुत शानदार प्रस्तुति ।

    ReplyDelete
  14. खूबसूरत गजल..|

    ReplyDelete
  15. महंगी वसूली हमसे 'परचेत',कीमत हमारे सुकून की,
    वक्त आयेगा जब भाव उनके भी होंगे कम एक दिन..

    waah !..Great lines Sir...Awesome !

    .

    ReplyDelete
  16. ढुलमुल यूँ इसतरह कबतक, चलती रहेगी जिन्दगी,
    कुछ न कुछ सख्त तो उठाने ही होंगे कदम एक दिन।

    काश ये शेर अपनी सरकार पढ़ ले ... और कुछ सुधर जाए ... बेहतरीन गज़ल है गौदियाल जी ...

    ReplyDelete
  17. दिन आयेगा महफ़िल में जब, होंगे न हम एक दिन,
    ख़त्म होकर रह जायेंगे सब रंज-ओ-गम एक दिन।
    रंजो गम खत्म होंगे ही

    सुन्दर गज़ल

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...