Thursday, April 8, 2010

बस एक ख़याल यूँ ही...


मजहब और खुदा का वास्ता देकर लगातार झूठ पर झूठ, और फिर सब कुछ कबूल ! हम तो यह भी नहीं पूछते कि पहले क्यों ना-नुकुर कर रहे थे जनाब ?और बन्दे की हिम्मत देखिये, अपने दुश्मन देश की पहले एक लडकी को बीबी बनाया, ऐश किये और फिर तलाक देकर, चौड़ा होकर दूसरी लडकी को बीबी बनाने ले जा रहा है! और लोग तथा मीडिया ७६ जवानो की निर्मम ह्त्या की खबर को अनदेखा कर उसकी खातिरदारी और प्रचार (टी आर पी ) में जुटे है! फर्ज कीजिये कि अगर शोएब भारतीय होता और आयशा-सानिया पाकिस्तानी , और यही कुछ उस वक्त भी होता तो क्या उसके वहाँ से सही-सलामत लौट आने की उम्मीद की जा सकती थी ? बस इतना ही कहूंगा कि धन्य है...............!!!

24 comments:

  1. धन्य है...............!!! सच में

    ReplyDelete
  2. सही कहा आपने
    अगर शोयब हिन्दुस्तानी होता तो अभी तक तो नामो निशाँ मिट गया होता
    सच में धन्य है भारत के लोग सच में कितनी सहिस्नुता है इनमे ??

    ReplyDelete
  3. इनको सब माफ है। ये हन्दू थोड़े ही है।

    ReplyDelete
  4. बहुत ज्वलंत प्रश्न ....

    ReplyDelete
  5. This comment has been removed by a blog administrator.

    ReplyDelete
  6. भय्या इतिहास बांच ओ .कोई नयी बात है क्या .

    ReplyDelete
  7. गोदियाल जी ,

    नमस्कार....

    मैं वापिस आ गया हूँ..... बहुत ख़ुशी हुई यह देख कर कि टिप्पणी का ऑप्शन आपने खोल दिया..... अब विचारों का प्रवाह मेरा....रुकेगा नहीं....

    सादर

    महफूज़...

    ReplyDelete
  8. apki baat se puri tarah sehmat hu. kash is mudde ko is roop me uthaya jaye.

    ReplyDelete
  9. khushkhabri mehfooz bhai vapas aa gye hai
    godiyaal sir ki post par comment ayaa hai..

    ReplyDelete
  10. Hindustan main ladko ki kami ho gai hai kya ?

    ReplyDelete
  11. हमारा सुर: धन्य है/....

    ReplyDelete
  12. पुरातन बात है जी. नमन.

    रामराम.

    ReplyDelete
  13. फिर से स्वागत है महफूज भाई आपका ! और हाँ, मेरी तरफ से वधाई स्वीकारे !

    ReplyDelete
  14. सहमत हूं आपसे और आपके ही जरिये महफ़ूज़ का स्वागत कर लेता हूं और उन्हे बधाई भी देता हूं।

    ReplyDelete
  15. पहले तो ये मियाँ जी कह रहे थे कि ये मेरी महाआपा(बडी बहन) है,बाद में बीबी मान लिया:-)
    धन्य हो!

    ReplyDelete
  16. वत्स जी,आप की बात पर मै उसको "मुसलमान" कह दूं तो.....
    चलो छोडो!नहीं कहता,मेरे कहने से वो बदल थोड़े ही जाएगा!अब उन में चलता होगा ये सब,हम क्यों गन्दगी में पत्थर मेरे जी!
    और गोदियाल जी,आपने बात को बिलकुल सही तरीके से पकड़ा है!
    पर हिन्दुस्तानियों को तो सिर्फ पेट भरने के चक्कर ने जकड़ा है!
    कुंवर जी,

    ReplyDelete
  17. धन्य है!

    अजी वही पुराना वोट बैंक जिसके आगे सब ठीक है!

    ReplyDelete
  18. आप की बात से सहमत हूं……………।मगर ये हिन्दुस्तान है……………यहाँ दुश्मन को भी गले लगाया जाता है…………इसे सिद्ध किया जा रहा है…………धन्य है सच में

    ReplyDelete
  19. बड़ी शिद्दत के सथ पढ़ा है आपकी पोस्ट को!

    ReplyDelete
  20. सच मच ... धनी है हमारा मीडीया ... जान की नही स्टेटस की परवा, पैसे की परवा करता है ...

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...