Friday, February 24, 2012

बादशाह मछेरा !


बादशाह मछेरे, 
तुमने मत्स्य जाल,
गुरुकाय व्हेल के ऊपर
डाला क्यों था?


जिन्न की रिहायश
बोतल में होती है,
यवसुरा* की शीशी से        (*बीयर)   
निकाला क्यों था?

बुजुर्ग फरमा गए
कर्म के चार अभ्यास,
ब्रह्मचर्य,गृहस्थ,
वानप्रस्थ और संन्यास !
वक्त-ऐ-मोक्ष,
काम मॉडल का
निराला क्यों था ?


बादशाह मछेरे, तुमने
अपना मत्स्य जाल,
गुरुकाय व्हेल के ऊपर
डाला क्यों था?




किंगफिशर की विफलता पर एक चुटकी  !

11 comments:

  1. बहुत अच्छा लिखा है ..
    kalamdaan.blogspot.in

    ReplyDelete
  2. बचपन का रोग
    मगर तुमने बुढ़ापे में
    पाला क्यों था?

    वाह , बहुत खूब.............

    ReplyDelete
  3. bahut achcha shabdjaal...bahut sundar.

    ReplyDelete
  4. बहुत सटीक लिखा है। भोला मछेरा खुद ही फंस गया। विशाल व्हेल के भार से स्वयं ही खिंचकर डूब गया। व्हेल का कुछ न बिगाड़ सका।

    ReplyDelete
  5. बचपन का रोग बुढ़ापे में... :)

    ReplyDelete
  6. यह भ्रम न रहे कि
    हवा में हिचकोले तुम्ही ने खाये,
    अपने वक्त पे
    जहाज तो हमने भी खूब उडाये !bahut khoob

    ReplyDelete
  7. ज़बरदस्त... शब्दों का अच्छा खेल :)

    ReplyDelete
  8. वाह ...बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  9. भोला मछेरा, भारी मछली, स्वयं ही डूब गया।

    ReplyDelete
  10. बचपन का रोग
    मगर तुमने बुढ़ापे में
    पाला क्यों था?

    वाह क्या बात हैं!!

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...