Tuesday, December 18, 2012

मर्जी के मालिक कारिंदे है।














आबरू बचाते कुछ मर गये, कुछ जिंदे है,
दरख़्त की शाख पर बैठे, डरे-डरे परिंदे है

खौफजदा है सभी यहां,निवासी  शहर के , 
क्योंकि बेख़ौफ़  घूमते फिर रहे दरिंदे है।
  
इस कदर फैला है  दहशत का ये आलम,,     
दरवान सोये है, और सरपरस्त उनींदे है।

शर्म से सर हिन्द का,झुक रहा बार-बार,
बेशर्म बने बैठे सब सरकारी नुमाइन्दे है।
    
फरियाद करें भी तो करें किससे 'परचेत', 
मर्जी के मालिक, हो गए सब कारिंदे है।
    

9 comments:

  1. सटीक .... कृत्य कोई कर और शर्मिंदा सबको होना पड़ जाता है ।

    ReplyDelete
  2. "दर्द तो हज़ारों हैं, फ़रियाद करें तो करें किस से " एक शर्मसार कर देने वाली घटना ने दिल्ली को विदेशों में 'Rape City' के नाम से नवाजा है .. क्या हमें ये नाम कबूल हैं क्यूंकि हमारे नेतिये तो मस्त होकर नज़ारे देख रहे है। :(

    मेरी नई कविता आपके इंतज़ार में है: नम मौसम, भीगी जमीं ..

    ReplyDelete
  3. खौफजदा नजर आता है, हर सरपरस्त शहर का,
    क्योंकि बेख़ौफ़ सड़कों पे घूमते फिर रहे दरिंदे है ..

    सच कहा है ... आज दरिंदों का राज है ... शर्म से झुक जाता है सर ...

    ReplyDelete
  4. अपने इस दर्द के साथ यहाँ आकर उसे न्याय दिलाने मे सहायता कीजिये या कहिये हम खुद की सहायता करेंगे यदि ऐसा करेंगे इस लिंक पर जाकर

    इस अभियान मे शामिल होने के लिये सबको प्रेरित कीजिए
    http://www.change.org/petitions/union-home-ministry-delhi-government-set-up-fast-track-courts-to-hear-rape-gangrape-cases#

    कम से कम हम इतना तो कर ही सकते हैं

    ReplyDelete
  5. बहुत दुखद व शर्मनाक स्थिति .....

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब .... आप भी पधारो पता है http://pankajkrsah.blogspot.com

    ReplyDelete

ब्लॉगिंग दिवस !

जब मालूम हुआ तो कुछ ऐसे करवट बदली, जिंदगी उबाऊ ने, शुरू किया नश्वर में स्वर भरना, सभी ब्लॉगर बहिण, भाऊ ने,  निष्क्रिय,सक्रिय सब ...