Tuesday, July 23, 2013

कार्टून कुछ बोलता है- बधाई हो गुलामों, एक और युवराज.............. !


11 comments:

  1. परसे हैं,
    कहो,
    आज भाग बरसे हैं।

    समाचार,
    न अचार,
    न विचार।

    ReplyDelete
  2. चाटुकारिता का परिकाष्ठा है यह...

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. कोहनूर माथे सजे, कामधेनु का दुग्ध |
      भेजे चाम गुलाम-कुल, युवराजा पर मुग्ध ||

      Delete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (24-07-2013) को में” “चर्चा मंच-अंकः1316” (गौशाला में लीद) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. टोपे के साथ ही जन्‍मना ठीक है

    ReplyDelete
  7. बहुत सही लताड़ा।

    ReplyDelete

दिल्ली/एनसीआर, क्या चिकित्सा मर्ज का मूल मेदांता सरीखे अस्पताल नहीं ?

  चूँकि दिल्ली के मैक्स और हरियाणा  के  फोर्टिस अस्पताल का मुद्दा गरम है, इसलिए इस प्रसंग को उठाना जायज समझता हूँ। पिछले कुछ दशकों से अधिक...