Tuesday, July 23, 2013

कार्टून कुछ बोलता है- बधाई हो गुलामों, एक और युवराज.............. !


11 comments:

  1. परसे हैं,
    कहो,
    आज भाग बरसे हैं।

    समाचार,
    न अचार,
    न विचार।

    ReplyDelete
  2. चाटुकारिता का परिकाष्ठा है यह...

    ReplyDelete
  3. Replies
    1. कोहनूर माथे सजे, कामधेनु का दुग्ध |
      भेजे चाम गुलाम-कुल, युवराजा पर मुग्ध ||

      Delete
  4. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    ReplyDelete
  5. सुन्दर प्रस्तुति ....!!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (24-07-2013) को में” “चर्चा मंच-अंकः1316” (गौशाला में लीद) पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  6. टोपे के साथ ही जन्‍मना ठीक है

    ReplyDelete
  7. बहुत सही लताड़ा।

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...