Friday, July 5, 2013

आतुरता !

आगमन पर
मौसम-ए- बरसात,
अगर एक पौधा 

बरगद का जो मैं रोपूँ ,
तो 
हर कोई यही कहेगा;
'पागल है, नीलगिरि के रोप,
फायदे में रहेगा'।   

9 comments:

  1. बिल्कुल सही कहा आपने.

    रामराम.

    ReplyDelete
  2. कलिकाल बिहाल किए मनुजा, ना जानत है अनुजा तनुजा
    लालच निचोड़ दिए मानव ममता, तब क्‍या बचत है भाईजा

    ReplyDelete
  3. "बाजारवाद की इस अंधी दौड़ में, न जाने हर कोई क्यों इस कदर उतावला हो गया है।। "

    bilkul sahi baat!

    ReplyDelete
  4. आज हर चीज़ के मायने नि‍कालने बहुत ज़रूरी हैं :-(

    ReplyDelete
  5. हर चीज में मतलब जो देखने लगा है इंसान!

    ReplyDelete
  6. बढ़िया प्रस्तुति है आदरणीय-
    आभार आपका-

    ReplyDelete
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (06-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/ चर्चा मंच <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    ReplyDelete
  8. बहुत गहरी बात कही है।

    ReplyDelete
  9. दौड़ रहे सब, आगे निकलें,
    अपने घर से भागें, दिख ले।

    ReplyDelete

बढ़ता (एंटी) सोशल नेटवर्किंग: खतरे में यकीन का अस्तित्व !

निहित स्वार्थों की वजह से  डिजिटल प्रौद्योगिकी  के  इस जटिल युग में  पढ़ा-लिखा इंसान, प्रौद्योगिकी का  इसकदर दुरुपयोग करने लगेगा  कि  मानव ...