Tuesday, February 14, 2012

जानेमन !


जाने जाना,गुल-ए-गुलजार  !

तुम जानती हो, मैं खुले में नहीं करता 

कभी अपने इश्क का इजहार।   



समय की मर्यादा रुकावट न बने

इसलिए मैंने तुम्हारे लिए

अपने एहसास ट्विटर पर,

अनुभूति फेसबुक पर

और भावनाएं ब्लॉग पर

अभिव्यक्त कर दी हैं !



अब इतनी है तुमसे दरकार ,
जब जी करे, गूगल सर्च पर

दिलवर और अपना नाम

टंकित कर ढूंढ लेना,

सबकुछ उपलब्द्ध हैं शजर-ए-डार!!

12 comments:

  1. :-)

    ज़माना बदल रहा है...

    ReplyDelete
  2. क्या बात है... बहुत खूब.

    ReplyDelete
  3. प्यार का नाम,
    वह भी खुले आम..

    ReplyDelete
  4. एक ही अड़चन है --डर है कहीं सैकड़ों पेज न खुल जाएँ । :)

    ReplyDelete
  5. Safest mode of love is 'Online love'...no one can deny who loved whom...million witnesses...lol..

    ReplyDelete
  6. Haha..
    gajab sirji gajab..
    Modern proposal :p


    palchhin-aditya.blogspot.in

    ReplyDelete
  7. वाह! सब ऑनलाइन, सब पब्लिक, जो चाहे हंसे, जो चाहे रोये!

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...