Saturday, March 20, 2010

खूब मजे लूट रहा, घर के भी, घाट के भी !



सुना था,जब-जब अराजकता के बादल घिरते है,
यहाँ, आवारा हर कुत्ते के दिन फिरते है !

कमोबेश,कुछ ऐसा ही परिस्थिति अबकी भी बार है,
दूषण - प्रदूषण से हुआ हर तंत्र बीमार है !


क्या कहने,अब तो धोबी के कुत्ते के ठाठ-बाट के भी,
खूब मजे लूट रहा, घर के भी, घाट के भी !


उसकी तो,बस नजर, अपने बाहुल्य बढ़ाई में है,
पांचों उँगलियाँ घी में,सिर कढाई में है !


हर तरफ,जिधर देखो, अराजकता ही नजर आती है,
रोटी की जगह टॉमी, बटर-ब्रेड खाती है !


ऐसी तो,बादशाहत, हरगिज देखी न सुनी थी हमने,
अवाम-ए-हिंद, कभी किसी बड़े लाट के भी !


क्या कहने, अब तो धोबी के कुत्ते के ठाठ-बाट के भी,
खूब मजे लूट रहा, घर के भी, घाट के भी !

8 comments:

  1. कुछ ऐसा ही परिस्थिति अबकी भी बार है,
    दूषण - प्रदूषण से हुआ हर तंत्र बीमार है !
    ऊपर लगा चित्र बहुत कुछ कह रहा है जी, ओर आप कि यह कविता भी बहुत अच्छी लगी इस , आज का सच

    ReplyDelete
  2. वा्ह गोदियाल जी,
    आज तो अट्ठा मारा है।
    गधे के साथ कुत्ते का
    भी हुआ गुजारा है।
    तंत्र जब से स्वतंत्र हुआ
    अमन चैन किसे गवारा है।

    आभार-टिप्पणी बक्सा खोलने के लिए।

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी कविता ...

    ReplyDelete
  4. कुछ ऐसा ही परिस्थिति अबकी भी बार है,
    दूषण - प्रदूषण से हुआ हर तंत्र बीमार है !
    स्थिति तो यही है

    ReplyDelete
  5. आजकल तो कुत्तों के ही ज्यादा ठाठ बाठ हैं।
    गोदियाल जी , ये कौन सा बनवास काटकर लौटे हैं।
    खैर टिपण्णी खोलने का बहुत शुक्रिया।

    ReplyDelete
  6. "अब तो धोबी के कुत्ते के ठाठ-बाट के भी,
    खूब मजे लूट रहा, घर के भी, घाट के भी !!"

    बहुत खूब!

    जोरदार ठाठ-बाट हैं भाई! आरसी पी रहे हैं और खीर खा रहे हैं! :-)

    ReplyDelete

लघुकथा- क्षीण संप्रत्यय !

अकेली महिला और उसके साथ उसके दो नाबालिग बेटे, अरुण और वरुण। मेरे मुहल्ले मे मेरे घर से कुछ ही दूरी पर एक तीन मंजिला बडे से मकान के एक छोटे स...