Monday, December 21, 2009

बेचारा !








23 comments:

  1. हे भगवान ऐसी दुर्दशा किसी दुश्मन की भी न हो...कहाँ पिटे हैं ये जनाब?
    नीरज

    ReplyDelete
  2. नया टोपिक लाये हैं.. आपको बधाई...
    वरना हम तो स्त्री विमर्श में ऐसे उलझे की अब नर विमर्श का इंतज़ार करने लगे है-

    ReplyDelete
  3. इतने बड़े खिलाड़ी वुड्स की ऐसी की तैसी हो गयी.

    ReplyDelete
  4. हा हा हा हा ...
    अभी तक तो ऐसी हालत नहीं हुई है, लेकिन होने के कगार पर बेचारा पहुँच ही गया था...
    ये तो शायद उस स्तिथि का पूर्वावलोकन है...
    ट्रेलर हैं जी ..कि फिलम ऐसी 'हिट' बनेगी.......
    हा हा हा
    Get It !!!

    ReplyDelete
  5. हा हा हा हा ...
    अभी तक तो ऐसी हालत नहीं हुई है, लेकिन होने के कगार पर बेचारा पहुँच ही गया था...
    ये तो शायद उस स्तिथि का पूर्वावलोकन है...
    ट्रेलर हैं जी ..कि फिलम ऐसी 'हिट' बनेगी.......
    हा हा हा
    Get It !!!

    ReplyDelete
  6. कमाल की चित्रकारी की है।
    गोदियाल साहब, लगता है आप को कंप्यूटर की अच्छी जानकारी है।
    वैसे ये मियां बीबी का मामला है , हम क्या कहें।

    ReplyDelete
  7. बहुत ही बढि़या चित्र।

    ReplyDelete
  8. ... बहुत खूब ... कहीं ये नहले-पे-दहला तो नही है !!!!!

    ReplyDelete
  9. गोल्फ खेलते खेलते रिश्तों से खेलने लगे तो ये तो होना ही था

    ReplyDelete
  10. हे भगवान ऐसी दुर्दशा किसी दुश्मन की भी न हो...कहाँ पिटे हैं ये जनाब?

    ReplyDelete
  11. अरे इतना कुछ होने पर ही हंस रहा है, कोई गिला शिकवा नही, ओर यह नारी शक्ति करण वालिया राम राम आजादी अर्जित करे या ना करे लेकिन आपस मै ही लड रही है,:)

    ReplyDelete
  12. बहुत सुन्दर किस्मत है (पहलू मे)

    ReplyDelete
  13. चित्रों पर न जाइए!
    अष्टावक्र को याद कर लें!

    ReplyDelete
  14. `नारी की ताकत’

    वह तो झेल रहे हैं जी :)

    ReplyDelete
  15. गोल्फ़ स्टी्क की जोरदार धुनाई है।

    ReplyDelete
  16. हा हा.. मस्त है ये तो..

    ReplyDelete
  17. सादर वन्दे
    कमाल है जी

    ReplyDelete
  18. आजकल अखबार मे इन श्रीमान की ही चर्चा है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  19. जय हो नारी शक्ति ........
    टाइगर साहब आगे आगे देखिए होता है क्या .....

    ReplyDelete
  20. नारी शक्ति महान!!!!!
    गोदियाल जी, मान गये..आप भी कलाकार आदमी हो :)

    ReplyDelete
  21. उफ्फ!! दहल गये!!

    ReplyDelete

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना !

मैट्रो के डिब्बों में 'आसन व्यवस्था' की नई परिकल्पना ! (New concept of 'seating arrangement' in Metro coaches ! ) ...