Friday, December 11, 2009

अंधे आगे नाच के, कला अकारथ जाए !

वतन गुलाम हुआ फिर से,कुटिलई  परिवेश का,
यही सोचता हूँ कि क्या होगा अपने इस देश का ?

फर्क  पाना मुश्किल हुआ, साधु -वद के वेश का,

यही सोचता हूँ कि क्या होगा अपने इस देश का ?

एक पटेल थे,लग्न से थी बिखरी रियासतें समेटी,
ये भी  हैं ,बांट रहे कहीं बुन्देलखन्ड,कही अमेठी !

घॊडा भाग रहा है यहां हर तरफ़, वोट की रेस का,

यही सोचता हूँ कि क्या होगा अपने इस देश का ?

मची हुई चहु दिशा में,बदइंतजामियत की  हाय ,
गिला व्यर्थ,अंधे आगे नाच,कला अकारथ जाय !   

जलाता  है खून 'परचेत’,निज शरीर अवशेष का,

यही सोचता हूँ कि क्या होगा अपने इस देश का ?

33 comments:

  1. "कुछ भी नही हो सकता, अब मेरे इस देश का!"

    इतना भी निराश मत होइये गोदियाल साहब, बहुत कुछ होगा और हम ही करेंगे!

    ReplyDelete
  2. सच कह रहे हैं आप ....कुछ नहीं हो सकता इस देश का...

    ReplyDelete
  3. हमें कविता पसंद आई इसलिए चटका न.2 निराश मत होओ, अगर हो भी गये हो तो हम हैं न इस देश के जिसे शिक्षा मिली है जिस देश में रहो उस देश के वफादार रहो

    ReplyDelete
  4. शुक्रिया आदरणीय कैरानवी साहब !

    ReplyDelete
  5. ज्यूं चल रहा, यूं ही चलता रहा और यूं ही चलेगा,
    जैचन्द शत्रु संग बैठ सेकेगा रोटी, और यह जलेगा !

    शक्लें एक सी है, पता चले कैसे गद्दारों के भेष का,
    कुछ भी नही हो सकता, अब मेरे इस देश का !


    अक्षरश: सत्य है!

    ReplyDelete
  6. कैसे कुछ नहीं होगा इस देश का? निराशा जरूर बाधक होगी. वैसे कविता है खूब!

    ReplyDelete
  7. aaj subah paper padhte huye isi vishay par soch rahi thi aur aapne usi satya se samna kara diya..........ek baar phir desh ke tukde kar rahe hain........lagta hai phir desh ko gulami ki janjeer pahna kar hi rahenge ye neta kyunki aaj inka imaan sirf itna hai ki apna pet bharein desh bhad mein jata hai to jaye.........bahut dil dukhta hai jab ye haal dekhte hain..........kya yahi 21 vi sadi ka pravesh hai to ant kaisa hoga?

    ReplyDelete
  8. कैसे कुछ नहीं हो सकता ?
    इतने निराश न हों .. रात्रि के घने अंधकार के बाद ही सवेरा आता है !!

    ReplyDelete
  9. कैसे कुछ नहीं होगा इस देश का? निराशा जरूर बाधक होगी. वैसे कविता है खूब!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही सुन्‍दर प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  11. बहुत सारगर्भित कविता. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. कुछ भी नही हो सकता, अब मेरे इस देश का!


    माना कि अभी वर्तमान हालातों को देखते हुए निराशा उत्पन हो जाना स्वाभाविक है किन्तु "मन में है विश्वास, पूरा है विश्वास...हम होंगें कामयाब एक दिन......."

    ReplyDelete
  13. होगा क्यों नहीं ...बहुत कुछ होगा इस देश का कई टुकडे होंगे ...जाति,धर्म,भाषा के नाम पर ...!!

    ReplyDelete
  14. जला न खून’गोदियाल’,निज अश्रु ज्योति शेष का,
    कुछ भी नही हो सकता, अब तेरे इस देश का !

    ab na to ashru hi bache hai na shabd....sab khatm hai bhai...

    ReplyDelete
  15. सुबह डालें मछलियों को दाना, शाम को खाऐं मछली-टीका अब मेरे इस देश में, वाह मेरे देश प्रेमियों एक ढूंडो हजार मिलते हो, हमारी दो इच्‍छाऐं थी एक बुगला भगत देखने की वह इस ब्लाग पे आके पूरी हुई, यह अल्‍पसंख्‍यकों के त्‍यौहार पर कैसा मज़ाक उडाता है यह अब मुहर्रम पर देखना, पिछले देख ही चुके होंगे, अगर यह पोस्‍ट पसंद आरही है तो चटका मारो, 2,3,4 हमने अवध गये बिना ही दिया है, अब यह ब्लागवाणी हाटलिस्‍ट में है, बधाई बधाई बधाई
    दूसरी इच्‍छा अवध देखने की है उसकी हमें कोई जल्‍दी नहीं

    अवधिया चाचा
    जो कभी अवध न गया

    ReplyDelete
  16. एक अच्छी रचना आज के परिवेश पर

    ReplyDelete
  17. भाई , हम तो यही कहेंगे की उम्मीद पर दुनिया कायम है।

    ReplyDelete
  18. jai ho !

    urjaa se bhari

    na keval saamyik drishti se balki sthaai star par bhi acchhi kavita

    badhaai !!!!!

    ReplyDelete
  19. बहुत बढिया व सामयिक रचना है।बधाई।

    ReplyDelete
  20. आज के हालात पर उपजी रचना है ।
    एक बात अवधिया चाचा से कहुंगा -आप अवध जरूर जायें क्योंकि अवध तहजीब सिखाने वाला शहर है

    ReplyDelete
  21. जला न खून’गोदियाल’,निज शरीर अवशेष का,
    कुछ भी नही हो सकता, अब तेरे इस देश का ..

    ये दर्द बहुत से लोगों के दिल में उठता होगा ........ दिल की आवाज़ है आपकी ये रचना ......

    ReplyDelete
  22. haha...

    aisa nahi sir...abhi to bohot kuch hona baki hai.....

    abhi galat ho raha hai to kya hua?? sahi bhi hoga....

    bas kuch achche leader chahiye :)

    ReplyDelete
  23. सच मे कुछ नहीं हो सकता मेरे देश क। बहुत् अच्छी रचना है बधाई

    ReplyDelete
  24. एक पटेल थे,जी-जान से, बिखरी रियासतें समेटी,
    एक ये बांट रहे फिर कहीं बुन्देलखन्ड,कही अमेठी !
    kya baat hai... shandaar.. ab TOI ki website par jakar aaj ki latest news dekhiye.. poorvaanchal bhi chahiye!!! ye politicians bhi naa...

    जला न खून’गोदियाल’,निज शरीर अवशेष का,
    कुछ भी नही हो सकता, अब तेरे इस देश का !
    is par sahmat hone se pahle sochna padega.. i mean, lagta to sach hi hai, par manne ko jee nahi kart...

    ReplyDelete
  25. घॊडा भाग रहा यहां हर तरफ़, वोट की रेस का,
    कुछ भी नही हो सकता, अब मेरे इस देश का !

    ये तो आपने बिलकुल सत्य कहा है ...

    ReplyDelete
  26. Hum to yahi aasha karte hai ki bhavishya main bhagwan kuchh inko bhi sadbuddhi de bhai......

    ReplyDelete
  27. रात के राही थक मत जाना
    सुबह की मंजिल दूर नहीं .
    ...............................
    रात जितनी ही संगीन होगी
    सुबह उतनी ही रंगीन होगी
    गम न कर जो है बादल घनेरा .

    विश्वास करें ,बदलेगा ही नहीं सब बदल जायेगा ,अगर आपके जैसे सिर्फ कुछ ही उठ खड़े हों .
    लेकिन देश का दर्द आपकी कविता में उतर आया है .
    बधाई !

    ReplyDelete
  28. हुआ गुलाम फिर से कुटिल राजनैतिक परिवेश का,
    कुछ भी नही हो सकता, अब मेरे इस देश का !

    ज्यूं चल रहा, यूं ही चलता रहा और यूं ही चलेगा,
    जैचन्द शत्रु संग बैठ सेकेगा रोटी, और यह जलेगा !

    sir,
    You r a good poet indeed but please do not give negative message to the society.
    There is a war between lightbeares and darkholder from the beginning. recognise urself where u r and what r u doing for humanity and for country?
    It is ur duty.
    It is a frndly advice pls do not take it personal.
    please lit a candle of hope in ur next poem.

    ReplyDelete

अवंत शैशव !

यकायक ख़याल आते हैं मन में अनेक,  मोबाईल फोन से चिपका आज का तारुण्य देख,  बस,सोशल मीडिया पे बेसुद, बेखबर,  आगे, पीछे कुछ आत...