Thursday, December 24, 2009

आ जाओ क्रिस, अब आ भी जाओ !


जीसस  "क्रिस" यूं कब तलक तुम,
ज़रा भी टस से "मस" नहीं होगे,
गिरजे की वीरान चार दिवारी में ,
कब तक यूंही 'जस के तस' रहोगे ?

ये वो  परोपकारी वक्त  नहीं जब,
महापुरुष  लटक जाया करते थे,
अमृत सारा का सारा औरों को बाँट ,
खुद 
जहर घटक जाया करते थे।  

तुम सदियों से नीरव लटके खड़े हो,
खामोशी की भी हद होती है भई,
एक बार सूली से उतर कर तो देखो,
दुनिया कहाँ से कहाँ पहुँच गई।

दौलत -सोहरत की चकाचौंध में,
सभ्यता निःवस्त्र घूम रही है,
संस्कृति बचाती लाज फिर रही,
बेशर्मी शिखर को चूम रही है।

भाई,भाई का दुश्मन बन बैठा है ,
बेटा, बाप को लूटने की ताक में है,
माँ कलयुग को कोसे जा रही है ,
बेटी घर से भागने की 
फिराक में है।

लोर्ड क्रिस,अब तुम उतर भी आओ,
पाप का अन्धेरा घनघोर छा गया है !
यह आपके लटकने का वक्त नहीं  है ,
शठों को लटकाने का वक्त आ गया है।



Merry Christmas to all Blogger friends !

23 comments:

  1. "दौलत और सोहरत की चकाचौंध में,
    सभ्यता निःवस्त्र घूम रही है !
    संस्कृति बचाती लाज फिर रही,
    बेशर्मी शिखर को चूम रही है !!"


    बहुत ही सुन्दर गोदियाल जी!

    ReplyDelete
  2. कटाक्ष करती हुई एक बढ़िया सामयिक पोस्ट है।
    बहुत बहुत बधाई गोदियाल जी।

    भाई-भाई का दुश्मन बन बैठा,
    बेटा, बाप को लूटने की फिराक में है!
    माँ कलयुग को कोसे जा रही,
    बेटी घर से भागने की ताक में है !!

    ReplyDelete
  3. संस्कृति बचाती लाज फिर रही,
    बेशर्मी शिखर को चूम रही है !!
    यथार्थ चित्रण -- भावपूर्ण

    ReplyDelete
  4. गौदियाल साहब ......... आपका HAPPY CHRISTMAS का अंदाज़ बहुत भाया .......... CHRIS KO बुला भी लिया और कटाक्ष भी कर दिया .........

    ReplyDelete
  5. दौलत और सोहरत की चकाचौंध में,
    सभ्यता निःवस्त्र घूम रही है !
    संस्कृति बचाती लाज फिर रही,
    बेशर्मी शिखर को चूम रही है !!
    aaj ke yatharth par badhiya kataksh.

    ReplyDelete
  6. लोर्ड क्रिस अब उतर भी आओ,
    चहुँ ओर पाप का अन्धेरा घनघोर छा गया है !
    यह आपके लटकने का वक्त नहीं,
    अपितु पापियों को लटकाने का वक्त आ गया है !!

    मुझे भी यही लगता है, गोदियाल जी।
    सही समय पर सही रचना। बधाई।

    ReplyDelete
  7. गोदियाल साहब,
    क्या लिखा है....
    इस आह्वान पर कौन न दौड़ कर आएगा...
    आज की रात ही यह ख्रिस कहीं न कहीं जनम जाएगा...!!

    बहुत ही भावमयी कविता...ह्रदय को आंदोलित कर गई....

    ReplyDelete
  8. लोर्ड क्रिस अब उतर भी आओ,
    चहुँ ओर पाप का अन्धेरा घनघोर छा गया है !
    यह आपके लटकने का वक्त नहीं,
    अपितु पापियों को लटकाने का वक्त आ गया है !!

    क्रिसमस की बधाई!

    ReplyDelete
  9. कटाक्ष के साथ .... अच्छी लगी यह रचना....

    मेरी क्रिसमस....

    ReplyDelete
  10. भाई-भाई का दुश्मन बन बैठा,
    बेटा, बाप को लूटने की फिराक में है!
    माँ कलयुग को कोसे जा रही,
    बेटी घर से भागने की ताक में है !!
    बिलकुल सच लिखा आप ने धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. बेहद सटीक और सामयिक कविता. शुभकामनाएं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. नैतिकता ने दम तोड़ दिया कबके,
    मानवीय मूल्य सबका ह्रास हो गया !
    झूट की देहरी जगमग-जगमग,
    दबा सच का आँगन कहीं घास हो गया !!

    आज के परिवेश की स्थिति को समेटती हुई बहुत बढ़िया कविता..गोदियाल जी बहुत बढ़िया प्रस्तुति..

    ReplyDelete
  13. सब जगह तुम..........
    मंदिर हो ,मस्जिद,चर्च या गुरुद्वार हो .

    मानवता का दस्तावेज है आपका लेखन , सिर्फ कविता नहीं .

    ReplyDelete
  14. सब जगह तुम..........
    मंदिर हो ,मस्जिद,चर्च या गुरुद्वार हो .

    मानवता का दस्तावेज है आपका लेखन , सिर्फ कविता नहीं .

    ReplyDelete
  15. सलीब पर लटके क्रिश को वर्तमान जगत की निर्ममता की ओर इशारा करती कविता ...
    आभार ...!!

    ReplyDelete
  16. सर्वत्र तुम्ही विद्यमान हो, वो चाहे
    मंदिर हो,मस्जिद, चर्च अथवा गुरुद्वारे हो !
    आ जाओ क्रिस, अब आ भी जाओ,
    तुम इस जग के रखवारे हो ! !
    बहुत सुन्दर सन्देश देती रचना बधाई

    ReplyDelete
  17. सार्थक प्रस्तुति

    ReplyDelete
  18. क्रिसमस पर एक अच्छी कविता...!

    क्रिसमस की बधाइयाँ,गोदियाल साहब..!

    ReplyDelete
  19. गोदियाल जी.... नमस्कार.... कैसे हैं आप?

    ReplyDelete
  20. बहुत दिनों से कुछ लिखा नहीं आपने?

    ReplyDelete
  21. ghazab bhaai godiyaalji laazawaab!!!

    ReplyDelete

दिल्ली/एनसीआर, क्या चिकित्सा मर्ज का मूल मेदांता सरीखे अस्पताल नहीं ?

  चूँकि दिल्ली के मैक्स और हरियाणा  के  फोर्टिस अस्पताल का मुद्दा गरम है, इसलिए इस प्रसंग को उठाना जायज समझता हूँ। पिछले कुछ दशकों से अधिक...