Tuesday, November 17, 2009

और जब मै भी कार्टून बनाने बैठा तो.....

आजकल हमारे ब्लॉगर मित्रो को कार्टून काफी पसंद आ रहे है, तो अपनी भी यह कबाड़ी खोपड़ी :) कभी कभी सटक ही जाती है इसलिए सोचा कि क्यों न मुझे भी अपनी इस नई प्रतिभा के साथ -दो -दो हाथ कर लेने चाहिये ! तो मैंने भी बना डाला एक कार्टून आपके मनोरंजनार्थ ! इसे देखिये और पसंद आये तो अल्लाह के नाम पर एक चटका दे देना बाबा, हा-हा ! हां, आप लोगो से यह निवेदन भी करूँगा कि कृपया इसे व्यक्तिगत तौर पर अन्यथा न ले ;


कृपया तस्बीर बड़ी देखने के लिए उसके ऊपर किल्क करे

20 comments:

  1. Shadi ki right age to 16 sal hi hai. Unse puchhiye jo 40 ki age main shadi karte hai aur kavi banane layak bhi nahi rahte. 16 age par shadi koro 18 par bachche paida koro aur eish karo .... ha ha ha... bhai....

    ReplyDelete
  2. वाह बहुत बडिया प्रयास है बधाई

    ReplyDelete
  3. वाह! आप तो कार्टूनिस्ट भी हैं!!

    ReplyDelete
  4. वाह गोदियाल जी
    हम तो आपकी प्रतिभा के कायल हो गये, कार्टुन देखा तो घायल हो गये-अब आप एक ब्लाग कार्टुन का भी शुरु करें, बधाई

    ReplyDelete
  5. ha ha ha ha ha ha ha

    G A Z A B !

    ReplyDelete
  6. अरे वाह आप तो बहुत से प्रतिभा के धनी है । प्रयास आपका लाजवाब रहा , और सफल भी हुये।

    ReplyDelete
  7. ललित जी की तरह हम घायल तो नहीं हुए, पर इस सुन्दर कार्टून के कथ्य से मुझे लगा कि विवाहादि के बारे में मुझे सोचना शुरू कर देना चाहिए....:)

    ReplyDelete
  8. खेल्ने-कूदने की उम्र में ही तो बच्चे पैदा होते हैं...बूढे क्या खाक पैदा करेंगे :)

    ReplyDelete
  9. बहुत अच्छी गोदियाल साहब ..... लेखक की उपज के बारे में पता चल गया .....
    और हां आपका कार्टून लाजवाब है ...... जारी रखें ......

    ReplyDelete
  10. कार्टून के बहाने अच्छी चुटकी।
    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  11. नई नई विधा में अपनी बात कहने का प्रयास तो करना ही चाहिए .. शुभकामनाएं !!

    ReplyDelete
  12. बढ़िया!
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  13. Sir ji, anyatha bhi nahin liya aur ek chatka bhi de diya...
    haan aur sabse badi baat aapse prerit hokar ek bar fir se apne cartoon banane ke shauk ko jinda kar raha hoon.. jaldi hi aapka pratiyogi samne hoga.. ha ha ha
    Jai Hind...

    ReplyDelete
  14. :) क्या जबरदस्त कार्टून बनाया आपने !

    ReplyDelete
  15. हम्म्म
    अच्छा है आप का भी स्वागत है इस जमात में :)

    ReplyDelete

लघुकथा- क्षीण संप्रत्यय !

अकेली महिला और उसके साथ उसके दो नाबालिग बेटे, अरुण और वरुण। मेरे मुहल्ले मे मेरे घर से कुछ ही दूरी पर एक तीन मंजिला बडे से मकान के एक छोटे स...